Skip to content

DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 Question Answer

DAV class 8 Naitik Shiksha chapter 2 question answer eeshvar ka sarvashreshth naam om are given below to help the students to answer the questions correctly using logical approach and methodology.

Here, we provide complete solutions of DAV Class 8 Naitik Shiksha chapter 2 eeshvar ka sarvashreshth naam om of Naitik Shiksha Textbook.

These exercise of Naitik Shiksha chapter 2 contains 8 questions and the answers to them are provided in the DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 Question Answer.

DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 Question Answer eeshvar ka sarvashreshth naam om
DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2

DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 Solutions

DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 eeshvar ka sarvashreshth naam om Solutions is given below. Here DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 eeshvar ka sarvashreshth naam om question answer is provided with detailed explanation.

DAV Class 8 students are more likely to score good marks in Naitik Shiksha exam if they practise DAV Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 eeshvar ka sarvashreshth naam om Question Answer regularly.

Solutions of DAV Class 8 Naitik Shiksha chapter 2 is help to boost the writing skills of the students, along with their logical reasoning.

Students of class 8 can go through Naitik Shiksha chapter 2 eeshvar ka sarvashreshth naam om solutions to learn an effective way of expressing their answer in the M.ED exam.

Class 8 Naitik Shiksha Chapter 2 Question Answer

Question 1. भगवान का सर्वश्रेष्ठ नाम क्या है?

उत्तर: भगवान का सर्वक्षेष्ठ नाम ॐ है।

Question 2. वाणी में पवित्रता कैसे आती है?

उत्तर: ॐ नाम का जप करने से वाणी में पवित्रता आती है।

Question 3. जगत का अनुपम आधार कौन है?

उत्तर: जगत का अनुपम आधार ॐ है।

Question 4. मानव के मन मंदिर की ज्योति का प्रकाश पुंज कौन है?

उत्तर: मानव के मन मन्दिर की ज्योति का प्रकाश पुंज ॐ है।

Question 5. ॐ नाम को प्राप्त कर लेने से मनुष्य की कैसी निष्ठा बन जाती है?

उत्तर: ॐ नाम को प्राप्त कर लेने से मनुष्य की ऐसी निष्ठा बन जाती है कि लाख कामों को छोड़कर भी वह ॐ के जप में मग्न हो जाता है।

Question 6. ॐ शव्द की व्याख्या कीजिए।

उत्तर: ॐ सारे संसार का प्राण है। सृष्टि की उत्पत्ति के समय सबसे पहला जो नाद हुआ वह ॐ था। अब भी जब और कोई ध्वनि नही होती तो यही ॐ की ध्वनि, न केवल ब्रह्मा श्रोत ही सुनते हैं अपितु अन्तःकरण भी उनका ही नाद सुनता है।

Question 7. गुरु नानकदेव जी ने ॐ को क्या कहा है?

उत्तर: गुरु नानकदेव जी ने ॐ को कहा है-एक ओंकार सत नाम कर्ता पुरख।

Question 8. ॐ नाम का महत्व स्पष्ट कीजिए।

उत्तर: सारे शास्त्रों ने ॐ ही को परमात्मा का निज नाम दर्शाया है और तो और तांत्रिक मंत्र भी तब तक पूर्ण नहीं होते, जब तक उनके आदि में ॐ न बोला जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *